इलेक्ट्रॉनिक डायरी का आविष्कार किसने किया?

0

इलेक्ट्रॉनिक डायरी का अविष्कार सबसे पहले किसने किया था? आप सभी तो ये जानते ही होंगे की आज हम डिजिटल युग में जी रहे हैं जहाँ हमारा आधा से ज्यादा काम डिजिटल device द्वारा पूरा होता है. फिर चाहे वो online recharge करना हो, पढाई करनी हो, movies देखनी हो, बातें करनी हो या shopping करनी हो.

आपको याद होगा बचपन में हमारे स्कूल के अध्यापक और हमारे माता पिता भी हमें रात को एक डायरी लिखने को कहते थे जिसमे हम अपने दिनचर्या में जो भी अनुभव करते हैं- अच्छा या बुरा, सभी चीजों को एक कागज के पन्ने में लिखने को कहा करते थे.

हम उनकी बात मान भी लेते थे और बस 2 या 4 दिन के लिए लिखने का सिलसिला चलता था उसके बाद हम लिखना बंद कर देते थे. आपको पता है हम ऐसा क्यों करते थे? क्योंकि हमें लिखना बड़ा ही बोरिंग सा लगता था इसलिए हम लिखना पसंद नहीं करते थे.

 electronic diary ka avishkar kisne kiya

वो जमाना तो कागज और कलम का था लेकिन आज का जमाना computer का जमाना है. कुछ लोग आज भी ऐसे हैं जिन्हें डायरी लिखना अच्छा लगता है और हो सकता है की बचपन से ही लिखने का उन्हें शौक हो. लेकिन फर्क बस इतना है की कागज और कलम के जगह आज हम एक इलेक्ट्रॉनिक डायरी का इस्तेमाल करते हैं.

इलेक्ट्रॉनिक डायरी का नाम सुनकर तो आपको समझ में आ ही गया होगा की इसमें पारंपरिक रूप से इस्तेमाल किये जाने वाले कागज और कलम की जरुरत नहीं है बल्कि एक इलेक्ट्रॉनिक device के मदद से डायरी लिखी जाती है.

इलेक्ट्रॉनिक डायरी क्या है और इलेक्ट्रॉनिक डायरी का अविष्कार किसने किया है? इसका जवाब 100 में से 80 लोगों को पता ही नहीं होगा. क्योंकि हम में से ज्यादा लोग डायरी लिखना पसंद ही नहीं करते.

लेकिन आपको इलेक्ट्रॉनिक डायरी की एक ख़ास बात बताऊँ, आप इसका इस्तेमाल केवल डायरी लिखने के लिए ही नहीं बल्कि अपने आने वाले events, business transactions, काम के नये ideas इत्यादि किसी भी चीज के बारे में लिख सकते हैं.

इलेक्ट्रॉनिक डायरी का अविष्कार सबसे पहले किसने किया था?

मुझे पता ही की आप सब भी ये जानना चाहते हैं की इलेक्ट्रॉनिक डायरी की खोज किसने की या इलेक्ट्रॉनिक डायरी का अविष्कारक कौन है?

इलेक्ट्रॉनिक डायरी का अविष्कार Sam Pitroda ने किया था.

वो इंसान जिसने पारंपरिक डायरी की जगह इलेक्ट्रॉनिक डायरी का अविष्कार किया असल में वो किसी दूर विदेश से नहीं बल्कि अपने ही देश भारत का सदस्य है. यह इलेक्ट्रॉनिक डायरी के भारतीय अविष्कारक है.

electronic diary ke avishkarak
Sam Pitroda

Sam Pitroda का पूरा नाम Satyan Pitroda है, ये एक अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सम्मानित दूरसंचार आविष्कारक, उद्यमी, विकास विचारक और नीति निर्माता हैं, जिन्होंने Information Communication Technology (ICT) और इससे संबंधित वैश्विक और राष्ट्रीय विकास में 50 साल बिताए हैं. उनका जन्म पूर्वी भारतीय राज्य ओडिशा में टिटलागढ़ में गुजरती परिवार में हुआ था.

Sam Pitroda को कई लोग Indian Telecom Revolution के पिता के रूप में जानते हैं. उन्होंने ग्रामीण भारत के सबसे दूरदराज के हिस्सों में भी टेलीफोन उपलब्ध कराने का काम किया, उनका मानना था कि Information Communication Technology (ICT) भी पानी और शिक्षा की तरह ही विकासशील दुनिया के लिए महत्वपूर्ण है.

उन्हें 1975 में इलेक्ट्रॉनिक डायरी के आविष्कार के कारण हाथ से आयोजित कंप्यूटिंग के शुरुआती अग्रदूतों में से एक माना जाता है. Sam Pitroda ने इलेक्ट्रॉनिक डायरी का अविष्कार किया है जो पहला इलेक्ट्रॉनिक्स एंड हैंडहेल्ड उपकरण में से एक था.

इलेक्ट्रॉनिक डायरी क्या है?

एक इलेक्ट्रॉनिक डायरी एक सॉफ्टवेयर प्रोग्राम है जिसे विशेष रूप से उपयोगकर्ताओं के लिए उनके दैनिक कार्य और कार्यक्रम लिखने, किए जाने वाले कार्यों की सूची बनाने, नियुक्तियों की व्यवस्था करने और कंप्यूटर नेटवर्क पर सहयोगियों के साथ इस जानकारी को साझा करने के लिए बनाया गया है.

इलेक्ट्रॉनिक डायरी के apps और websites दोनों ही मौजूद हैं जिसका इस्तेमाल आप notes लिखने और काम पूरा करने की सूचि बनाने के लिए कर सकते हैं.

हर दिन, हमें दिन की घटनाओं और उन कार्यों को नोट करना चाहिए जो पूरे हो गए हैं या प्रक्रिया में हैं. पहले हम उन्हें पेपर नोटबुक में लिखते थे, हालाँकि पर्यावरण संरक्षण की भावना के साथ मनुष्यों ने अपनी आदत को बदला और इसी तरह अब हम इलेक्ट्रॉनिक डायरी सॉफ्टवेयर का उपयोग करने के आदी हैं.

यहां तक कि इस तरह के डायरी सॉफ्टवेयर हमें अधिक व्यवस्थित तरीके से मदद करते हैं, और हमें अधिक तेज़ी से जानकारी प्राप्त करने में मदद करते हैं. हम डायरी को अधिक शानदार और सुस्पष्ट बनाने के लिए images, tables, attachments आदि सम्मिलित कर सकते हैं.

इलेक्ट्रॉनिक डायरी हमें आकर्षण टूल प्रदान करते हैं, इनमे से एक टूल विशेष रूप से डिज़ाइन किए गए हैं जो उपयोगकर्ताओं को डेटा और फ़ाइलों की सुरक्षा के लिए अत्यधिक एन्क्रिप्टेड पासवर्ड सेट करने की अनुमति देते हैं. लोग केवल सही पासवर्ड के साथ डेटा का उपयोग कर सकते हैं.

Efficient Diary, Diaro, Penzu इत्यादि जैसे इलेक्ट्रॉनिक डायरी application आप सभी operating system जैसे Android, iOS, Windows और सभी devices जैसे mobile, PC, tablets इत्यादि पर इस्तेमाल कर सकते हैं.

कुछ ऐसे भी apps मौजूद हैं जिनका इस्तेमाल आप सिर्फ एक ही operating system पर कर सकते हैं जैसे Google का Keep डायरी app आप Android device में उपयोग कर सकते हैं और Windows का Digital diary को आप केवल windows OS में ही इस्तेमाल कर सकते हैं.

विभिन्न प्रकार के व्यवसाय इन इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों का उपयोग दिन-प्रतिदिन के कार्यों को सुविधाजनक बनाने और meetings या projects के लिए योजनाओं पर नजर रखने के लिए करते हैं.

चूंकि कंप्यूटर प्रत्येक appointments का details रखता है, इसलिए इलेक्ट्रॉनिक डायरी के जरिये मीटिंग और अपॉइंटमेंट के लिए उपयोगकर्ताओं को पहले से याद दिलाया जा सकता है.

डायरी हमें अपने विचारों को व्यवस्थित करने और उन्हें आशाजनक बनाने में मदद करती है. आप दैनिक घटनाओं, विचारों और भावनाओं के कुछ निश्चित अनुभव या राय के बारे में रिकॉर्ड कर सकते हैं.

कई सालों से, लोगों ने डायरी रखने के लिए कलम और कागज का इस्तेमाल किया है. इंटरनेट के आगमन के साथ, हालांकि, डायरी तैयार करने का एक नया तरीका आया. अब आप अपने विचारों को इलेक्ट्रॉनिक डायरी में लिख और प्रकाशित कर सकते हैं.

आजकल लोग blog या vlog रखते हैं, और सोशल मीडिया पर अपने जीवन को रिकॉर्ड करते हैं, हम में से बहुत कम लोग पत्रिका में लिखते हैं और अपने अनुभवों को शब्दों का रूप देते हैं.

Blog भी एक प्रकार की इलेक्ट्रॉनिक डायरी ही है जिसमे हम अपने ज्ञान और अनुभव के बारे में लिखते हैं और अन्य लोगों के साथ उस ज्ञान को साझा करते हैं.

कुछ blogs ऐसे भी होते हैं जिनमे लोग अपने निजी जीवन के बारे में, सफलता के बारे में, अपनी आत्मकथा के बारे में लिखना पसंद करते हैं और दुनिया भर के लोग उनके लेख को पढ़ते हैं और उनके जीवन के संघर्षो के बारे में जानते हैं.

जैसे मशहुर अभिनेता अमिताभ बच्चन जी का एक पर्सनल blog है जिनमे वो कवितायेँ, अपने आने वाली फिल्मों की जानकारी, अपने जीवन के अनुभवों, सामाजिक चिंता इत्यादि जैसे बहुत सी चीजों के बारे में लिखते हैं और उनके चाहने वाले उनके blog को पढना पसंद करते हैं.

इलेक्ट्रॉनिक डायरी का इस्तेमाल क्यों करना चाहिए?

इलेक्ट्रॉनिक डायरी परंपरागत चीजों का इस्तेमाल जैसे कागज, कलम, स्याही इत्यादी से लिखने की आवश्यकता के बिना हर दिन अपनी डायरी लिखने का एक उपकरण है.

इसके अलावा यह बहुत अच्छी विशेषताओं के साथ आता है जो आपको अपना समय व्यवस्थित करने में मदद करता हैं, आपके effort को कम करते हैं और आपकी सर्वश्रेष्ठ यादों को visually और audibly याद रखने में मदद करते हैं.

इलेक्ट्रॉनिक डायरी पेपर डायरी के मुकाबले बहुत से फायदे देता है. वो क्या हैं चलिए उसके बारे में जानते हैं.

1. कागज की डायरी या जर्नल के साथ समस्या यह है कि वे खो सकते हैं या नष्ट हो सकते हैं. एक online इलेक्ट्रॉनिक journal को cloud में सही तरीके से और सुरक्षित रखा जाता है.

आपकी इलेक्ट्रॉनिक डायरी सुरक्षित रूप से online stored की जाती है, इसलिए आप कभी नहीं भूलेंगे कि यह कहाँ छिपा है.

2. एक पेपर डायरी पर इलेक्ट्रॉनिक डायरी का सबसे महत्वपूर्ण लाभ साझा करने की क्षमता में है. पेपर डायरी को आप online शेयर नहीं कर सकते लेकिन इलेक्ट्रॉनिक डायरी में लिखे गए journals को आप शेयर कर सकते हैं.

3. इलेक्ट्रॉनिक डायरी में एक उच्च सुरक्षा प्रणाली मौजूद होती है जो आपकी डायरियों को चोरी होने से बचाती है. कोई भी व्यक्ति आपके इजाजत के बिना आपकी personal डायरी पढ़ नहीं सकता क्योंकि वो पासवर्ड से सुरक्षित रहता है.

लेकिन पेपर डायरी के case में अक्सर दुसरे व्यक्ति डायरी को चोरी छिपे पढ़ लिया करते थे क्योंकि उनमे कोई lock system नहीं हुआ करता है.

4. इलेक्ट्रॉनिक डायरी पर लिखी गई हर चीज़ का बैकअप लिया जा सकता है ताकि आपको अपनी बहुमूल्य entries को खोने की चिंता न करनी पड़े.

आप अपनी entries की एक copy बना सकते हैं और उन्हें अपनी हार्ड ड्राइव पर संग्रहीत कर सकते हैं, या आप entries को स्वयं को e-mail कर सकते हैं या उन्हें flash drive पर संग्रहीत कर सकते हैं.

5. एक डायरी को केवल एक व्यक्ति के लिए डिज़ाइन किया गया है: यानि की आप. दूसरी ओर, एक इलेक्ट्रॉनिक डायरी को आप जितना चाहे उतने लोगों के साथ साझा कर सकते हैं.

आप अपने आप तक उस पहुंच को सीमित कर सकते हैं या आप अपने मित्रों और परिवार वालो को आपके डायरी access करने की अनुमति दे सकते हैं या अपनी डायरी को आम जनता के लिए उपलब्ध करा सकते हैं.

6. पारंपरिक डायरी में चित्रों को सम्मिलित करना बहुत निराशाजनक हो सकता है. आपको इसमें या तो हाथ से चित्र बनाना होता है या इसे किसी पत्रिका या अन्य स्रोत से काटकर पृष्ठ से जोड़ना होता है.

ऑनलाइन होने वाली इलेक्ट्रॉनिक डायरियों के साथ, आप अपने text को ऑनलाइन ढेरों मल्टीमीडिया सामग्री के साथ एकीकृत कर सकते हैं, जिसमें चित्र, एनिमेशन और विज्ञापन भी शामिल हैं.

7. आमतौर पर एक आम डायरी में अगर कुछ गलती हो गई है या उसमे हमें कुछ नया जोड़ना है तो उसे समायोजित करने के लिए एक eraser के साथ मिटाने की आवश्यकता होती है. यह एक थकाऊ और समय लेने वाली प्रक्रिया है.

इलेक्ट्रॉनिक डायरी के साथ, आपको केवल उस text को select करना होगा जिसे आप हटाना चाहते हैं, उसके बाद delete बटन का इस्तेमाल करके उस text को मिटा सकते हैं और फिर एक नई text डाल सकते हैं बिना किसी परेशानी के.

आज आपने क्या सिखा?

इलेक्ट्रिकल डेयरी डिवाइस का प्रकार है जिसमें डेयरी स्टोरेज के साथ इलेक्ट्रॉनिक क्लॉक कैलेंडर भी शामिल है.

इस प्रकार की इलेक्ट्रिकल डेयरी का मुख्य कार्य यह है कि यह सभी महत्वपूर्ण तिथियों और नियुक्ति को आसानी से ट्रैक कर सकती है और अलार्म टोन के साथ रिमाइंडर संदेश का उपयोग करके उपयोगकर्ता को आने वाली महत्वपूर्ण तिथियों और घटनाओं को भी याद दिलाती है.

मुझे उम्मीद है की आपको इस लेख “इलेक्ट्रॉनिक डायरी का अविष्कार किसने किया?” से ये पता चल गया होगा की इलेक्ट्रॉनिक डायरी किसने बनाई थी और वो किस देश के थे. इस लेख से आपको इलेक्ट्रॉनिक डायरी के बारे में भी बहुत कुछ जानने और सिखने को मिला होगा.

आशा है की आपको ये लेख पसंद आएगा, अगर आपको ये लेख पसंद आया तो इसे अपने दोस्तों के साथ सभी social networking sites में शेयर करें और इसी तरह की जानकारी पाने के लिए हमारे blog पर आते रहे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here