प्यार कैसे करते हैं?

0

आखिर प्यार कैसे करते हैं? “प्यार” एक छोटा शब्द है लेकिन इसके कई सारे अर्थ होते हैं. प्यार का अर्थ सभी के नजरों में अलग अलग होता है. एक माँ के लिए उसका प्यार उसके शिशु की ख़ुशी में होता है, एक वीर जवान के लिए उसका प्यार देश की रखवाली करने में होता है, एक युवक का प्यार उसके हमसफ़र की सुख दुःख में साथ देना होता है.

प्यार का मतलब विश्वास या व्यवहार भी हो सकता है जो किसी के प्रति आपके स्नेह को दर्शाता है. प्यार एक ऐसा एहसास है जिसे हर कोई जीवन में एक बार अनुभव करना चाहता है. क्योंकि यह उन्हें खुश और महत्वपूर्ण महसूस कराता है.

प्यार के ऊपर मैंने पहले भी कुछ बातें लिखी हैं, अगर आपके मन में प्रेम को लेकर कुछ सवाल हैं तो आप उन लेखों को भी जरुर पढ़ें, हो सकता है की आपको आपके सवालों के जवाब मिल जायें.

प्रेम के बारे में तो सभी जानते हैं लेकिन आज इस लेख में मैं आपको ये बताने वाली हूँ की प्यार आखिर करते कैसे हैं?

सच्चा प्यार सभी करते हैं और सबके करने का अंदाज़ भी अलग अलग होता है. लेकिन कभी कभी किसी किसी के प्यार करने का तरीका गलत लगने लगता है. अगर आपको जानना है की प्यार करने का सही तरीका क्या है तो इस लेख सच्चा प्यार कैसे करते हैं को पूरा जरुर पढ़ें.

प्यार कैसे किया जाता है (How to Love in Hindi)

pyar kaise karte hai hindi

प्यार एक ऐसी चीज है जो हर कोई चाहता है. प्यार कई चीजों के लिए हो सकता है, परिवार, पार्टनर, पालतू जानवर, प्रकृति और यहां तक कि खुद के लिए भी. प्यार के साथ ईमानदारी, देखभाल और विश्वास भी शामिल होता है जो रिश्तों को मजबूत करने के लिए आव्यश्यक होते हैं.

मनुष्य के रूप में, हम हमेशा एक दूसरे पर निर्भर रहते हैं, हालाँकि हम सब अलग-अलग होते हैं, लेकिन ये प्यार ही है जो हम सभी को एक साथ बांधता है और दुनिया को एक बेहतर जगह बनाता है.

सच्चा प्रेम कुछ ऐसा है जिसे हर कोई महसूस करना चाहता है, या किसीके प्रति महसूस किया है. हर कोई प्यार करना चाहता है, यह उन्हें खुशी देता है और उन्हें ऐसा महसूस कराता है जैसे वे किसी ख़ास के लिए मायने रखते हैं.

लेकिन कभी कभी लोग अपना प्रेम जताने के लिए गलत कदम उठाते हैं और अपने ही प्रेमी को नुक्सान पहुंचाते हैं, जो की गलत है. जैसे आपने अखबारों में कई बार देखा होगा की प्यार से हारे हुए लोग इनकार सहन नहीं कर पाते हैं और फिर अपने पसंदीदा प्रेमी को नुक्सान पहुँचाने के लिए उन पर तेज़ाब फेंक देते हैं और कभी कभी तो उनकी जान भी ले लेते हैं.

किसी से एक सच्चा प्यार करने के लिए, आपको पहले प्यार की प्रकृति और इसके परिभाषा को समझना जरुरी है. किसीसे प्यार करने का मतलब ये नहीं है की उसपर आपका पूरा अधिकार है, आप जो चाहें उसके साथ कर सकते हैं. प्यार का मतलब तो उस व्यक्ति के भावनाओं की इज्जत करना होता है.

अब मैं आपको प्यार कैसे करते हैं इसकी जानकारी दूंगी जिससे आपको पता चल जायेगा की आखिर एक दूसरे से प्यार कैसे करते हैं लोग.

1. अपने आप से प्रेम करें

किसी को प्यार करने से सबसे पहले जरुरी है की आप खुद से प्यार करें. अपने आप को प्यार करने का अर्थ है अपने अच्छे गुणों को पहचानना, और यह स्वीकार करना कि ये वे चीजें हैं जो आपको एक व्यक्ति के रूप में परिभाषित करती हैं.

अपने आप से प्यार करना और दुसरे से प्यार करने में बहुत फर्क लेकिन जब आप ही अपनी अहमियत को नहीं समझेंगे तो दुसरे के वजूद को भी आप नहीं समझ पायेंगें. इसलिए किसी से प्यार करने से पहले अपने आप से प्यार करिए और प्यार का सही मतलब समझिये.

2. प्यार में ईर्ष्या ना लायें

जब हम अपने दोस्तों के बारे में सुनते हैं की उन्हें अच्छी जॉब मिल गई है या उन्होंने कुछ बड़ा काम कर सफलता हासिल की है, तो ऐसे में ईर्ष्या की भावना महसूस करना स्वाभाविक है, खासकर अगर हम अपने जीवन की स्थिति से खुश नहीं हैं.

लेकिन प्यार के मामले में ऐसा नहीं है. यदि आप किसी से सच्चा प्यार करते हैं, तो आप उनकी खुशी के लिए खुशी महसूस करते हैं, और अपने स्वयं के ईर्ष्या को उसमे मिलने नहीं देते हैं.

इसलिए प्यार करने के लिए जरुरी है की ईर्ष्या के बिना अपने प्यार की सफलता का जश्न मनाएं और उन्हें एहसास दिलाये की आप उनके सुख और दुःख दोनों में साथ खड़े हैं.

3. दिल खोल कर अपनी बात कहें

यकीनन प्यार का सबसे स्पष्ट तरीका प्यार भरे शब्दों के माध्यम से है. समय समय पर अपनी साथी से अपने प्यार का इजहार करना जरुरी होता है, इसमें आप चाहे तो I love you शब्द का प्रयोग कर सकते हैं.

या फिर आपको उनकी जो भी बातें या व्यवहार अच्छा लगता है उसकी प्रशंसा कर सकते हैं. शब्दों को बयाँ करने से ही प्यार की फीलिंग और आपकी भावनायें सामने वाले को समझ आती हैं. इसलिए अपने विचार या बातों को अपने साथी के सामने व्यक्त करना जरुरी है.

4. क्वालिटी टाइम बिताएं

आपने प्यार को और गहरा बनाने के लिए अपने प्रेमी के साथ quality time बिताएं. जब आप साथ हों, तो उस व्यक्ति को अपना पूरा, अविभाजित प्यार दें. आप और आपके प्रिय व्यक्ति के बीच आने वाले किसी भी व्याकुलता को खत्म करने का प्रयास करें.

अपने प्रेमी को विशेष महसूस कराने के लिए अपने फोन या इलेक्ट्रॉनिक्स gadgets का उपयोग करने से बचें. इससे आपके रिश्ते में खुशहाली आएगी. समय का आपका निवेश अद्भुत लाभदायक बनेगा. आपके साथी को ये महसूस कराएगा की आप उससे कितना प्यार और कितनी परवाह करते हैं.

5. प्रेमी की हर बात सुनें

अपनी महबूब या महबूबा की हर बात सुने. जब आप किसी निश्चित समय के लिए किसी के साथ होते हैं, तो ध्यान इधर उधर रखने के बजाये उनकी बातें सुननी चाहिए. आप यह नहीं जानते होंगे, लेकिन ठीक से उनकी बातें ना सुनना वास्तव में आपसे प्यार करने वाले के लिए बहुत दुखदायी हो सकता है.

चाहे आपको लगता है कि विषय दिलचस्प नहीं है या आपको ऐसा लगता है कि आपने यह सब पहले से ही सुना है, फिर भी उनकी बातें सुनने का प्रयास करें. यह वह व्यक्ति है जो आपके लिए सबसे ज्यादा मायने रखता है, तो आपको इसकी परवाह होनी चाहिए कि वे क्या कहना चाहते हैं.

6. पूरी आजादी दें

एक सच्चे रिश्ते में ये ख़ास बात होती है की आप अपने साथी को हर चीज के लिए पूरी आजादी दें. उनकी इच्छाओं अनुसार उन्हें काम करने दे और बात बात पर रोक-टोक ना करें. अगर आप उन्हें उनकी इच्छा अनुसार काम नहीं करने देंगें तो वो जो भी करेंगे वो सारी बातें आपसे छुपायेंगे. इससे धीरे धीरे आप के रिश्ते कमजोर पड़ जायेंगे.

ऐसा नहीं है की आप उन्हें कुछ भी मना नहीं कर सकते, अगर आपको कोई बात सही नहीं लगती तो आप उसके लिए उन्हें समझा सकते हैं की ये उनके लिए सही नहीं है लेकिन जबरदस्ती मना करेंगे तो आपके साथी वो काम जरुर करेंगे और आपसे शेयर भी नहीं करेंगे.

इसलिए अपने साथी को आजादी दें, उन्हें एहसास दिलाएं की आपको उनपर पूरा भरोसा है. आपका साथी आपसे कभी कोई बात नहीं छुपायेगा और ये आपके रिश्ते को भी मजबूत बनाएगा.

प्रेम पियाला सो पिये शीश दक्षिना देय
लोभी शीश ना दे सके, नाम प्रेम का लेय.
-कबीर

अर्थात प्रेम का प्याला केवल वही पी सकता है जो अपने सीर का बलिदान करने को तैयार हो.

एक लोभी लालची अपने सीर का बलिदान कभी नहीं दे सकता भले वह कितना भी प्रेम-प्रेम चिल्लाता हो.

प्रेम में एक दिव्या शक्ति है जो लोगों के जीवन से दुःख को दूर कर सकती है. इसलिए तो कहते हैं की प्रेम ही ईश्वर है. प्रेम और कुछ नहीं बल्कि आंतरिक आवश्यकता है और खुश रहने का एक विकल्प है. इसलिए अगर कभी आपको किसी से प्रेम हो तो उसका सम्मान करें और ऊपर बताये गए टिप्स को जरुर फॉलो करें.

मुझे उम्मीद है की आपको ये लेख “प्यार कैसे करते हैं” पसंद आएगा. अगर आपको ये लेख अच्छा लगा तो इसे अपने दोस्तों के साथ और social networking sites पर भी जरुर शेयर करें ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों को इसकी जानकारी मिल सके.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here