क्या पेड़ पौधों में भी कोरोना वायरस हो सकता है?

पूरी दुनिया में सिर्फ कोरोना वायरस की ही चर्चा हो रही है क्योंकि इस बीमारी ने महामारी का रूप ले लिया है और बहुत से देशों को अपना शिकार बना रहा है. Asia देशों में corona तेज़ी से फ़ैल रहा है और दुनिया भर में कोरोना वायरस से संक्रमित होने और मृत्यु होने के मामले भी लगातार बढ़ रहे हैं.

कोरोना वायरस की शुरुआत China से हुयी और फिर ये धीरे धीरे दुसरे देशों में भी फैलने लगा जहाँ मनुष्य इस virus के संपर्क में आकार बीमार पड़ रहे हैं और मृत्यु की गोद में चले जा रहे हैं.

China के साथ ही Japan, Thailand, USA, Italy, England आदि और भी देशों में कोरोना virus के मरीज मिले हैं. हमारा भारत देश भी इस भयंकर बीमारी से वंचित नहीं रहा है. इस virus के कारण भारत सरकार ने पुरे देश को 21 दिनों (25 March- 14 April) के लिए lockdown कर दिया था और फिर लगातार ये lockdown तिन दफा बढाया गया.

भारत में अभी भी lockdown का पालन किया जा रहा है और ये lockdown 31 मई तक बढ़ा दिया गया है ताकि जो लोग इससे संक्रमित नहीं हुए हैं उन्हें इस बीमारी से बचाया जा सके. WHO के मुताबिक कोरोना वायरस जानवरों से इंसानों में प्रवेश करता है. ये virus एक व्यक्ति से दुसरे व्यक्ति के संपर्क में आने से फैलता है.

कहा जा रहा है की समुद्री जीव जन्तुओं से ये virus chin के लोगों में फैला है और कुछ अध्यनों में ये बात भी सामने आई है की कोरोना वायरस साँप और चमगादड़ में ख़ास तौर से पाए जाते हैं जिनका सेवन chin के लोग करते है. इसी वजह से chin से निकला ये virus पूरी दुनिया के लोगों को तबाह कर रहा है.

ये तो हम सभी जानते हैं इस virus की मौजूदगी जानवरों के साथ साथ मनुष्यों में भी देखने को मिली है इसलिए यहाँ पर एक सवाल ये भी उठता है की क्या पेड़ और पौधों में भी कोरोना वायरस हो सकता है? इस लेख में मैं आपको इसी चीज के बारे में कुछ बताने वाली हूँ.

क्या पेड़ पौधों में भी कोरोना वायरस हो सकता है?

Ped Podho Mein Coronavirus Hindi

पौधे हमारे जीवन का एक अहम हिस्सा है, ये पौधे ही हैं जिनके वजह से हम धरती पर जीवित रहते हैं. जिस तरह इंसानों को bacteria और virus के वजह से बहुत से रोग होते हैं ठीक उसी तरह पेड़ों को भी bacteria और virus के कारण रोग होते हैं. पौधे के रोग के लक्षण में रंग, आकार और कार्य में परिवर्तन होना शामिल होता है. ऐसा माना जा रहा है की पेड़ पौधों में भी कोरोना वायरस कुछ समय तक जीवित रह सकता है.

विशेषज्ञों का कहना है की अगर कोरोना virus से संक्रमित कोई व्यक्ति छींकता या खांसता है तो उसके मुह से निकले छींट की बुँदे अगर पेड़ पौधों पर पड़ती है तो पेड़ पौधों में भी वो virus आ जाता है. विशेषज्ञ मानते हैं की कोरोना virus कई दिनों तक एक जगह पर जिंदा रह सकता है.

इसी तरह कोरोना वायरस मनुष्यों के अन्दर रहने के अलावा कागज, धातु, दरवाजे, ट्रेनों-बसों के handle, फर्श, plastic के सामान आदि जगहों पर भी कुछ समय तक रह सकते हैं, जिसके संपर्क में आते ही किसी को भी कोरोना वायरस अपनी चपेट में ले सकता है.

यहाँ एक और सवाल उठता है की अगर पेड़ पौधों में कोरोना वायरस होता है तो जीवित पौधों में कोरोना virus कब तक जीवित रहता है? कोरोना वायरस इंसानों और जानवरों के शरीर के कोशिकाओं पर वार करता हैं और उनके immune system को पूरी तरह से कमजोर कर देता है ताकि मनुष्य का शरीर virus से लड़ने में नाकामयाब हो जाये.

कोरोना वायरस पेड़ पौधों पर सिर्फ कुछ घंटो तक जीवित रह सकते हैं लेकिन वो पेड़ों के कोशिकाओं को नुकसान नहीं पहुंचा सकते इसलिए फिलहाल हमें पेड़ पौधों के संपर्क में आने से बचने की जरुरत है क्योंकि धुप की किरण पड़ने पर ये virus पेड़ पौधों से अपने आप ही नष्ट हो जायेंगे.

कोरोना वायरस के लक्षण

अगर किसी वजह से आपके अन्दर कोरोना वायरस प्रवेश कर जाता है तो आपको ये जानना बेहद जरुरी है की कोरोना वायरस के लक्षण क्या है? कोरोना वायरस एक ऐसा virus है जो जानवरों से इंसानों में संचारित होता है, जो इंसानों में सामान्य जुकाम से लेकर respiratory तंत्र की गंभीर समस्या तक पैदा कर सकता है. COVID-19 virus से संक्रमित होने के कम से कम 14 दिनों के बाद इसके लक्षण दिखने शुरू होते हैं.

कोरोना वायरस के मरीजों को आम तौर पर जुखाम, खांसी, गले में दर्द, सांस लेने में दिक्कत, बुखार, उलटी, थकान, कफ जैसे शुरूआती लक्षण दिखाई देते हैं. इसके बाद ये लक्षण डायरिया, निमोनिया और Kidney failure का रूप ले लेते हैं जिससे व्यक्ति की मृत्यु भी हो सकती है.

आज कल तो कोरोना virus के नए लक्षण देखने को मिल रहे हैं जिसमें सर दर्द, ठंड लग्न, ठंड के साथ कपकपी लगना, मांसपेशियों में दर्द, गले में खराश और स्वाद या गंध का पता ना लग पाना, ये 6 नए संभावित लक्षण बताये गए हैं.

अगर किसी व्यक्ति में कोरोना वायरस रोग के लक्षण दीखते हैं तो कोरोना वायरस के लिए शिकायत कैसे करे? भारत सरकार ने भी कोरोना virus के लक्षण मिलने पर तत्काल स्वास्थ्य केंद्र पर सुचना देने क कहा है. इसके साथ साथ स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से 24 घंटे चलने वाला control room तैयार किया गया है.

फ़ोन नंबर 011-23978046 के माध्यम से control room में संपर्क किया जा सकता है. इसके अलावा [email protected] पर मेल करके भी कोरोना virus के लक्षणों या किसी भी तरह की आशंकाओं के बारे में जानकारी ली जा सकती है.

कोरोना वायरस से बचने के उपाय

इस वक्त कोरोना वायरस का इलाज संभव नहीं है लेकिन इसमें बीमारी के लक्षण को कम करने के लिए कुछ antibiotic की दवाइयां दी जा रही है. अभी तक कोरोना virus से निजात पाने के लिए कोई vaccine या कोरोना वायरस की दवा भी उपलब्ध नहीं है. इस virus के इलाज के लिए vaccine बनाने का काम वैज्ञानिक कर रहे हैं.

भारत में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या अब 7 लाख 21 हजार 344 से ज्यादा पहुंच चुकी है. अब तक यहाँ इसके कारण 20,184 लोगों की मौत भी हो चुकी है और 4,40,229 लोगों का इलाज सफल हुआ है.

देश के हर राज्यों में कोरोना वायरस के मरीज दर्ज किये जा चुके हैं और इस संक्रमण के बढ़ते खतरे को देखते हुए सावधानी बरतने की जरुरत है ताकि इसे फैलने से रोका जा सके. कोरोना वायरस और ना फैले इसके लिए भारत सरकार द्वारा पुरे देश में 21 दिनों के lockdown का एलान किया गया है. देश में मरीजों की संख्या जिस हिसाब से बढ़ रही है ऐसे में घर पर ही रहना कोरोना वायरस से बचाव का महत्वपूर्ण तरीका है.

Research से पता चला है की कोरोना वायरस से संक्रमित होने पर भी 60% लोगों में इसके लक्षण तुरंत नहीं दीखते इसमें मरीज सोचता है की वह संक्रमित नहीं है, जबकि वह जाने अनजाने में दूसरों तक संक्रमण को फैला सकता है. यानी किसी व्यक्ति में बीमारी दिखे इससे पहले ही वो फैलने लगता है.

इसलिए मरीज घर पर रहे तो बाकी लोग सुरक्षित रहेंगे और हम घर पर रहेंगे तो ऐसे लोगों के संपर्क में आने से बच सकेंगे जिन्हें पता ही नहीं की वे बीमार हैं. इसके अलावा Novel कोरोना वायरस से संक्रमित का उपचार के लिए निम्न बातों का ध्यान रखना है-

1. दिन में कई बार अपने हाथ साबुन या handwash से साफ़ करें.

2. जिनमे flu या सर्दी जैसे लक्षण हो उनके करीब ना जाए.

3. गंदे हाथों से आँख, नाक या मुह ना छुएं.

4. लोगो से दुरी बनाये रखें, गले ना लगें ना ही हाथ मिलाएं.

5. खांसते और छींकते समय अपने मुंह और नाक को अच्छी तरह से ढक कर रखें.

6. खांसी, बुखार और जुकाम के लक्षण होते ही doctor के पास जायें.

7. कच्चा या आधा पका सब्जी और मांस ना खाएं.

8. नियमित रूप से साफ़ सफाई का ध्यान रखें.

9. बहार जाने पर mask और hand gloves का इस्तेमाल करें.

10. कच्चे सलाद जैसे मुली, गाजर, टमाटर, खीरा ना खायें.

11. सार्वजनिक स्थलों पर और भीड़ भाद में जाने से बचें.

12. बच्चो और बुजुर्गों को घर से बहार ना निकलने दें.

13. शारीर के immunity को बरक़रार करने वाली चीजों का सेवन करें जैसे शहद, अदरक,लौंग, हल्दी, अज्वैन के पत्ते, अमला और नीम.

14. Tissue paper का इस्तेमाल करने के बाद तुरंत dustbin में फेंक दें.

15. धुम्रपान और शराब जैसे नशीली चीजों का सेवन ना करें क्योंकि जो लोग इन चीजों का सेवन करते हैं उनमे कोरोना वायरस का खतरा ज्यादा है.

कोरोना वायरस की जानकारी

मुझे उम्मीद है की आपको इस लेख “क्या पेड़ पौधों में भी कोरोना वायरस हो सकता है” के जरिये कोरोना virus के लक्षण, इससे बचने के उपाय और भी बहुत सी जानकारियां प्राप्त हुई होंगी. हमारे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के द्वारा किये गए 21 दिन का lockdown में हम सभी देशवासियों को सहयोग देना होगा तभी पूरा देश इस महामारी से बचकर बाहर निकल सकता है.

किसी एक की भी गलती की सजा पुरे देश के लोगों को भुगतनी पड़ सकती है इसलिए कोरोनो वायरस की बीमारी को गंभीरता से समझने की जरुरत है.

घर में रहे, खुदको और अपने परिवार को इस बीमारी से दूर रखें और स्वस्थ रहें. अगर आपको ये लेख पसंद आया तो इसे अपने दोस्तों और अन्य लोगो के साथ भी हर social networking sites पे शेयर करें और उन्हें इससे बचने की जानकरी दें.

3 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here